नवरात्रि मंत्र-नवरात्रि पूजा विधि हिंदी में !!


Kmsraj51 की कलम से…..

CYMT-Kmsraj51

“मां दुर्गा के नौ रूप”

1) शैलपुत्री: शैल” का मतलब पहाड़ है,”बेटी पुत्री” का मतलब है.इन्हे पर्वत हिमवान राजा की बेटी, कहा जाता है. माँशैलपुत्री माँ दुर्गा का पहला स्वरूप हैं .इनके दो हाथों में त्रिशूल और एक में कमल प्रदर्शित हैं.नवरात्र के पहली रात इनकी पूजा की जाती हैं.

2) ब्रह्मचारिणी: माँ ब्रह्मचारिणी माँ दुर्गा का दूसरा स्वरूप हैं. . यहाँ “तप” “ब्रह्मा का मतलब है.” इस देवी की मूर्ति बहुत सुंदर हैं.. यह प्यार और वफादारी समर्पित करती हैं. भ्रंचारिणी ज्ञान और ज्ञान का भंडार है. मोती उनके सबसे सुंदर गहने हैं.

3) चंद्रघण्टा : माँ दुर्गा की तीसरी शक्ति का नाम है. उसके माथे में एक चाँद आधा परिपत्र है.वह उज्ज्वल हैं. उनका रंग स्वर्ण हैं .उनके दस हाथ और तीन आखें है . उनके हाथ आठ हथियार प्रदर्शित करने के लिए है, जबकि शेष दो वरदान देने और रोकने के नुकसान के इशारों को प्रदर्शित हैं.

4) कूष्माण्डा : चौथी शक्ति का नाम हैं . उनके पास आठ हथियार , वह एक हथियार और एक माला पकड़े बाघ पर बैठे चमक उत्पन्न करती हैं.इनकी पूजा नवरात्र के चौथे दिन की जाती हैं.

5) स्कंद माता : दुर्गा की पाँचवी शक्ति का नाम हैं. वह एक शेर पर बैठी अपनी गौद में बेटा स्कंद रखती है. वह तीन आँखें और चार हाथ को प्रदर्शित करता है, दो हाथ, कमल मानती है जबकि अन्य दो हाथ प्रदर्शन बचाव और मुद्राएं देने, को समर्पित करतीं हैं.

6) कात्यायनी : भरपूर बाल और हाथ 4, 2 एक क्लीवर और एक मशाल पकड़े, जबकि शेष 2 “देने” और “रक्षा” की मुद्राएं हैं के साथ काले रंग की त्वचा (या नीले रंग). उसका वाहन एक वफादार गधा है. अंधकार और अज्ञान का नाश. माँ कालरात्रि माँ दुर्गा का छठा स्वरूप हैं. यह अंधेरे को नष्ट करती हैं.

7) कालरात्रि : दुर्गा मा की सातवी शक्ति का नाम हैं.भरपूर बाल और हाथ 4, 2 एक क्लीवर और एक मशाल पकड़े, जबकि शेष 2 “देने” और “रक्षा” की मुद्राएं हैं के साथ काले रंग की त्वचा (या नीले रंग). उसका वाहन एक वफादार गधा है.

8) महा गौरी : वह एक शंख, चाँद और जैस्मीन के रूप में सफेद है. वह आठ साल की उम्र की है. चार हथियार और सभी साथ टैग की गईं शक्तीस के खूबसूरत रंग के साथ, . वह अक्सर एक सफेद या हरे रंग की साड़ी में तैयार रहती हैं.. वह अपने पास एक ड्रम और एक त्रिशूल रखती है और अक्सर एक बैल की सवारी करती हैं.

9) सिद्धिदात्री : दुर्गा मा की आठवी शक्ति हैं.वह सब सिद्ध महयोगीस, और दूसरों के द्वारा पूजा की जाती है .वह महान चिकित्सा शक्तियों है .भगवान शिव उसकी पूजा करते थे. और सभी अलौकिक पॉवेर्स्फ्रों के साथ उसे आशीर्वाद धन्य केवल भगवान शिव अर्धनारीश्वरण फार्म का हासिल हैं.


“नवरात्रि पूजा विधि”

=> मां दुर्गा की पहली स्वरूपा और शैलराज हिमालय की पुत्री शैलपुत्री के पूजा के साथ ही नवरात्रि पूजा आरम्भ हो जाती है. नवरात्र पूजन के प्रथम दिन कलश स्थापना के साथ इनकी ही पूजा और उपासना की जाती है. माता शैलपुत्री का वाहन वृषभ है, उनके दाहिने हाथ में त्रिशूल और बाएं हाथ में कमल का पुष्प रहता है. नवरात्र के इस प्रथम दिन की उपासना में योगी अपने मन को ‘मूलाधार’ चक्र में स्थित करते हैं और यहीं से उनकी योग साधना प्रारंभ होता है. नवरात्रि के प्रथम दिन माता शैलपुत्री की पूजा-वंदना इस मंत्र द्वारा की जाती है.

वंदे वाद्द्रिछतलाभाय चंद्रार्धकृतशेखराम |
वृषारूढां शूलधरां शैलपुत्री यशस्विनीम्‌ ||

=> माँ ब्राहमाचारिणी की पूजा नवरात्र के दूसरे दिन की जाती हैं. माँ ब्रह्मचारिणी प्यार और वफ़ादारी का प्रतीक है. इनकी पूजा करने से व्यक्ति आलस्या , विराग छोड़ देता हैं और वह कर्तव्य के पथ से विचलित नहीं होता. माँ ब्रह्मचारिणी की कृपा से उसकी सफलता और जीत हमेशा और हर जगह होती हैं.माता पार्वती मेडिटेटेड तो गेट लॉर्ड शिवा आस हज़्बेंड आंड ड्यू तो तीस शी इस कॉल्ड ब्रह्मचारिणी. माता ब्रह्मचारिणी इस वर्षिप्ड आंड फास्ट इस ओब्ज़र्व्ड तो गेट हेर ब्लेससिंग्स. इस दिन माँ ब्रह्मचारिणी को चीनी का भोग लगाया जाता है. जिससे परिवार के सदस्यो की ऊमर बदती हैं. नवरात्र के दूसरे दिन माँ ब्रह्मचारिणी की पूजा इस मंत्र द्वारा की जाती हैं.

दधाना करपद्माभ्यामक्षमालाकमण्डलू ।
देवी प्रसीदतु मयि ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा ॥

=> मां दुर्गा की 9 शक्तियों की तीसरी स्वरूपा भगवती चंद्रघंटा की पूजा नवरात्र के तीसरे दिन की जाती है. माता के माथे पर घंटे आकार का अर्धचन्द्र है, जिस कारण इन्हें चन्द्रघंटा कहा जाता है. इनका रूप परम शांतिदायक और कल्याणकारी है. माता का शरीर स्वर्ण के समान उज्जवल है. इनका वाहन सिंह है और इनके दस हाथ हैं जो की विभिन्न प्रकार के अस्त्र-शस्त्र से सुशोभित रहते हैं. सिंह पर सवार मां चंद्रघंटा का रूप युद्ध के लिए उद्धत दिखता है और उनके घंटे की प्रचंड ध्वनि से असुर और राक्षस भयभीत करते हैं. भगवती चंद्रघंटा की उपासना करने से उपासक आध्यात्मिक और आत्मिक शक्ति प्राप्त करता है .और जो श्रद्धालु इस दिन श्रद्धा एवं भक्ति पूर्वक दुर्गा सप्तसती का पाठ करता है, वह संसार में यश, कीर्ति एवं सम्मान को प्राप्त करता है.नवरात्र के तीसरे दिन माता चंद्रघंटा की पूजा-वंदना इस मंत्र के द्वारा की जाती है-

पिण्डज प्रवरारुढ़ा चण्डकोपास्त्र कैर्युता |
प्रसादं तनुते मह्यं चंद्र घंष्टेति विश्रुता ||

=> माँ कूष्माडा की अराधना नवरात्र के चौथे दिन की जाती हैं.मां का यह दिव्य स्वरूप हमारे भतीर के रोग, तमस, शोक, विकास, अज्ञान, आलस्य व दुर्भावना आदि को दूर करता है। आज के दिन मां कूष्माडा की आराधना भक्तों को जड़ से चेतन की ओर ले जाती है व्यक्ति को यश, बल, बुद्धि प्रदान करती है। मां सिंह पर सवार अष्टभुजाधारी, मस्तक पर रत्नजडि़त स्वर्ण जडि़त मुकुट पहने अपने भक्तों को आर्शीवाद देने प्रकट होती है। आज के दिन मां के कूष्माडा रूप की स्तुति ही भक्तों को ढेरों कष्टों से मुक्त कराती है। मां के इस रूप पर कुम्हड़े (कद्दू) की बलि देनी की परम्परा है जिससे व्यक्ति के भीतर बसे हिंसक जीवन का नाश होता है।भक्त अपनी मां की आराधना कर कठिन लक्ष्य को आसानी से प्राप्त कर सकता है। नवरात्र के चौथे दिन माता कूशमंदा की पूजा इस मंत्र द्वारा की जाती हैं.

सुरासम्पूर्णकलशं रुधिराप्लुतमेव च ।
दधाना हस्तपद्माभ्यां कूष्माण्डा शुभदास्तु मे ॥

=> स्कंद माँ की पूजा नवरात्रि के पाँचवे दिन पर की जाती हैं. स्कंदमाता कुमार कार्तिकाए की माता हैं.यह दिन योगियो और साधको के लिए बहुत महत्वपूर्ण दिन होता हैं. इस दिन भक्त का मन विसुद्धा काकरा तक पहुँच जाता है और उसमें रहता है.स्कंदमाता के रूप में देवी की पूजा करके, भक्त की सभी इच्छाएँ को पूरा हो जाता है.उसकी दुनिया खुशियों से भर जाती हैं. भगवान स्कंद की पूजा करना स्वतः अपने बच्चे की पूजा करने के रूप में साधक उसकी पूजा करने के लिए विशेष रूप से चौकस होना चाहिए. सूर्य देवता के इष्टदेव होने के नाते, वह एक असामान्य और उसके भक्त पर चमक चमक रखती हैं. वह हमेशा एक अदृश्य दिव्य प्रभामंडल है.हमे पूरी ईमानदारी से स्कंडमाता की पूजा करनी चहिये.इस दिन माँ को केले का भोग लगाना चाहिए. माँ अपने भक्तो की सभी इच्छाओं को पूरा करती हैं. स्कंद माँ की पूजा करने से सारी बीमारियों से मुक्ति मिलती हैं.नवरात्र के पाँचवे दिन स्कंद माता की पूजा इस मंत्र द्वारा की जाती हैं.

सिंहासनगता नित्यं पद्माश्रितकरद्वया ।
शुभदास्तु सदा देवी स्कन्दमाता यशस्विनी ॥

=> माँ कत्यायनी की पूजा नवरात्रि के छठे दिन पर की जाती हैं. मां कात्यायनी की पूजा से हम शक्ति का एक बहुत बड़ा हिस्सा प्राप्त कर सकते हैं जो हमारे दुश्मन के साथ लड़ाई के लिए मददगार है.नवरात्र के छठे दिन पर निम्न मंत्र का जाप करें …..

चन्द्रहासोज्वलकरा शार्दूलवरवाहना ।
कात्यायनी शुभं दघाद्देवी दानवघातिनी ॥

मां कात्यायनी का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए. योगियों और साधकों इस दिन पर आज्ञा चक्र के लिए अभ्यास की तपस्या करते हैं.इस दिन माँ कत्यायनी को शहद का भोग लगाना चाहिए. इस दिन हमे लाल और सफेद कपड़े पहनने चाहिए . माँ अपने भक्तो की सभी समस्याओ को हल करती हैं. देवी की पूजा करने से व्यक्ति खुद में ज्ञान की एक मजबूत भावना महसूस कर सकता हैं !!

=> नवरात्र के सातवे दिन माँ कालरात्रि की पूजा की जाती हैं. माँ कालरात्रि की पूजा दुर्गा पूजा का सातवें दिन तांत्रिकों के लिए अपने अनुष्ठान के लिए सबसे महत्वपूर्ण दिन है. वे तांत्रिक अनुष्ठानों के साथ आधी रात के बाद देवी कालरात्रि की पूजा करते हैं. इस दिन देवी की आँखे खोली रहती हैं. इस दिन ब्रह्मांड में हर सिद्धि के दरवाजे खुल जाते है. भक्त मंदिर में इकट्ठा होने लगते हैं और पूरी भक्ति और समर्पण के साथ पूजा करते हैन.इस दिन विशेष प्रसाद और अनुष्ठान के साथ आधी रात को देवी की पूजा की पूजा का प्रदर्शन देखा जा सकता हैं. इस दिन माँ कालरात्रि को शराब भी चड़ाई जाती हैं.सिद्ध योगी और साधकों जो शशास्त्रा चक्र पर इस दिन पर तपस्या अभ्यास करते हैं. कलश के साथ देवी के सभी ग्रहों और परिवार के सदस्यों के साथ देवी के सभी ग्रहों की पूजा की जाती हैं.उसके बाद एक जप, “याइया देवया ततमिंद जग्दत्मशकता निशेशदेवगंशक्तिसमुहमूरत्या, . भगवान शिव और ब्रह्मा की पूजा देवी की पूजा करने के बाद की जाती है.माँ कालरात्रि की पूजा करने से सभी दुखो का निवारण होता है. माँ कालरात्रि सदा अपने भक्तो का कल्याण करती हैं.माँ कालरात्रि की पूजा इस मंत्र द्वारा की जाती है.

एकवेणी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता ।
लम्बोष्टी कर्णिकाकर्णी तैलाभ्यक्तशरीरिणी ॥
वामपादोल्लसल्लोहलताकण्टकभूषणा ।
वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा कालरात्रिर्भयङ्करी ॥

=> माँ महागौरी की पूजा नवरात्रि के आठवे दिन की जाती हैं.इनकी पूजा करने से भक्त के सारे पाप धूल जाते हैं. माँ की शक्ति अमोघ और तुरंत परिणाम देने वाली हैं. मां महागौरी की पूजा से अविवाहित लड़कियों को अच्छा पति मिलता हैं और विवाहित महिलाओं सुखी विवाहित जीवन के साथ धन्य हो जाती हैं.महा गौरी शांत, शांतिपूर्ण और शांत बुद्धि में मौजूद है. वह भक्त के दिल में रहती हैं.भक्त को इस दिन लाल, केसर, पीला, सफेद कपड़े पहनने चाहिए.इस दिन पर नारियल का भोग माँ महगौरी को पेशकश किया जाता हैं.. नारियल ब्राह्मण को भी दिया जाता है. इस दिन इस मंत्र का जाप करना चाहिए …..

श्वेते वृषे समारुढा श्वेताम्बरधरा शुचिः ।
महागौरी शुभं दघान्महादेवप्रमोददा ॥

सदा सुख और शांति देती हैं महागौरी-

देवी महागौरी बच्चे के साथ निःसंतान जोड़ों की इच्छाओं को पूरा करती हैं. इनकी पूजा करने से सभी समस्याओं से छुटकारा मिलता हैं!!

=> नवरात्र के नौवे दिन माँ सिद्धिदात्री की पूजा की जाती हैं.देश के कई भागों में यह दिन महानवमी के रूप में मनाया जाता है. माँ सिद्धिदात्री की पूजा करने से माँ प्रत्येक आत्मा को शुद्ध बना देती हैं.लोग इस दिन पर लाल, सफेद रंग के पहन सकते हैं. इस दिन पूजन, अर्चन, हवन, आदि माताजी का प्रदर्शन किया जाता हैं.शंख, चक्र, गदा और कमल मां सिद्धीड़ाट्री के चार हाथों मां सिद्धीड़ाट्री का प्रतीक है जो हमेशा से हमारी मदद करने के लिए उत्सुक हैं. मां सिद्धीड़ट्री की कृपा के कारण मनुष्य की सभी भौतिकवादी इच्छाएँ गायब हो जाती हैं.नवरात्रि के अंतिम दिन हमे इस मंत्र का जाप करना चाहिए…..

सिद्धगन्धर्वयक्षाघैरसुरैरमरैरपि ।
सेव्यमाना सदा भूयात् सिद्धिदा सिद्धिदायिनी ॥


माँ शैलपुत्री मन्त्र

वंदे वांच्छितलाभायाचंद्रार्धकृतशेखराम्।
वृषारूढांशूलधरांशैलपुत्रीयशस्विनीम्॥
पूणेंदुनिभांगौरी मूलाधार स्थितांप्रथम दुर्गा त्रिनेत्रा।
पटांबरपरिधानांरत्नकिरीटांनानालंकारभूषिता॥
प्रफुल्ल वदनांपल्लवाधरांकांतकपोलांतुंग कुचाम्।
कमनीयांलावण्यांस्मेरमुखीक्षीणमध्यांनितंबनीम्॥


माँ ब्रह्मचारिणी मन्त्र

दधाना करपद्माभ्यामक्षमालाकमण्डलू ।
देवी प्रसीदतु मयि ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा ॥

ॐ नमो भगवती ब्रह्मचारणी सर्वजग मोहिनी,
सर्वकार्य करनी,
मम निकट संकट हरणी,
मम मनोरथ पूर्णी,
मम चिंता निवारानी,
ॐ भगवती ब्रह्मचारणी नमो स्वाहा!!


माँ चंद्रघंटा मन्त्र

पिण्डज प्रवरारुढ़ा चण्डकोपास्त्र कैर्युता |
प्रसादं तनुते मह्यं चंद्र घंष्टेति विश्रुता ||

रहस्यं श्रणु वक्ष्यामि शैवेशी कमलानने।
श्री चन्द्रघण्टास्य कवचं सर्वसिद्धि दायकम्॥
बिना न्यासं बिना विनियोगं बिना शापोद्धारं बिना होमं।
स्नान शौचादिकं नास्ति श्रद्धामात्रेण सिद्धिकम॥
कुशिष्याम कुटिलाय वंचकाय निन्दकाय च।
न दातव्यं न दातव्यं न दातव्यं कदाचितम्॥

आपद्धद्धयी त्वंहि आधा शक्ति: शुभा पराम्।
अणिमादि सिद्धिदात्री चन्द्रघण्टे प्रणमाम्यीहम्॥
चन्द्रमुखी इष्ट दात्री इष्ट मंत्र स्वरूपणीम्।
धनदात्री आनंददात्री चन्द्रघण्टे प्रणमाम्यहम्॥
नानारूपधारिणी इच्छामयी ऐश्वर्यदायनीम्।
सौभाग्यारोग्य दायिनी चन्द्रघण्टे प्रणमाम्यहम्


माँ कूष्माण्डा मन्त्र

सुरासम्पूर्णकलशं रुधिराप्लुतमेव च ।
दधाना हस्तपद्माभ्यां कूष्माण्डा शुभदास्तु मे ॥

हसरै मे शिर: पातु कूष्माण्डे भवनाशिनीम्।
हसलकरीं नेत्रथ, हसरौश्च ललाटकम्॥
कौमारी पातु सर्वगात्रे वाराही उत्तरे तथा।
पूर्वे पातु वैष्णवी इन्द्राणी दक्षिणे मम।
दिग्दिध सर्वत्रैव कूं बीजं सर्वदावतु॥

दुर्गतिनाशिनी त्वंहि दारिद्रादि विनाशिनीम्।
जयंदा धनदां कूष्माण्डे प्रणमाम्यहम्॥
जगन्माता जगतकत्री जगदाधार रूपणीम्।
चराचरेश्वरी कूष्माण्डे प्रणमाम्यहम्॥
त्रैलोक्यसुंदरी त्वंहि दु:ख शोक निवारिणाम्।
परमानंदमयी कूष्माण्डे प्रणमाम्यहम्॥


स्कन्दमाता मन्त्र

सिंहासनगता नित्यं पद्माश्रितकरद्वया ।
शुभदास्तु सदा देवी स्कन्दमाता यशस्विनी ॥

माँ कत्यायनी मन्त्र

चन्द्रहासोज्वलकरा शार्दूलवरवाहना ।
कात्यायनी शुभं दघाद्देवी दानवघातिनी ॥


माँ कालरात्रि मन्त्र

एकवेणी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता ।
लम्बोष्टी कर्णिकाकर्णी तैलाभ्यक्तशरीरिणी ॥
वामपादोल्लसल्लोहलताकण्टकभूषणा ।
वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा कालरात्रिर्भयङ्करी ॥


माँ महगौरी मन्त्र

श्वेते वृषे समारुढा श्वेताम्बरधरा शुचिः ।
महागौरी शुभं दघान्महादेवप्रमोददा ॥

माँ सिद्धिदात्री मन्त्र

सिद्धगन्धर्वयक्षाघैरसुरैरमरैरपि ।
सेव्यमाना सदा भूयात् सिद्धिदा सिद्धिदायिनी ॥

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

More quotes visit at kmsraj51 copy

खुद को साबित करने के लिए मौका मिलने के आप हकदार हैं। सफलता की नींव आप खुद हैं। 

दूसरे क्या सोच रहे हैं, इस बारे में अनुमान लगाते रहना नकारात्मक सोच की निशानी है।

 

 

_______Copyright © 2014 kmsraj51.com All Rights Reserved.________