Can Love And Freedom Co-Exist (Exist Together)?

kmsraj51 की कलम से…..

Soulword_kmsraj51 - Change Y M T

Can Love And Freedom Co-Exist (Exist Together)?

Is it possible to love each other and be free at the same time? Yes. To reach this state in a relationship great wisdom is required. Most people love one another and tie one another down. Thus they lose their freedom. When freedom is lost, happiness goes away, and true wellbeing gives way to unhappiness. Often we look above all for love, a love we believe will change our life. We see it as the recognition of our inner value by another person. However, we trip over ourselves in looking for this love. Necessity is what motivates us and we try to satisfy it with an object or person who matches up to perfection. We have an immense emotional need for love, and the fear of remaining in a state of unsatisfied wanting. In our search to fill our need, we are prepared to deceive ourselves with unsuitable partners. Many people allow the love of another person to define their personality to such a point that, if they are rejected, they lose any sense of who they are and of the purpose they have in life. Often the relationship is colored, through one of the partners or both, by fear.

To free ourselves of the tendency to depend, we should have a strong heart, without any selfishness; a heart that has nothing to hide and that, as a result, is free and without fear; a heart that does not hold on to closed beliefs, to old negative experiences; a heart that has good feelings and is free of bitterness; a heart filled with the true values of peace, love, freedom and solidarity – which as a result is stronger and fuller.

In Spiritual Service,
Brahma Kumaris

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational Story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है:kmsraj51@yahoo.in.पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

also send me E-mail:

kmsraj51@yahoo.in   &  cymtkmsraj51@hotmail.com

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की  व्यथ॔ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51 

 

kmsraj51 की कलम से …..

Coming soon book (जल्द ही आ रहा किताब)…..

“तू ना हो निराश कभी मन से”

 

_________________ all rights reserve under kmsraj51-2013-2014 _________________

Injustices And Suffering In The World – Applying The Law of Karma

kmsraj51 की कलम से…..

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की  व्यथ॔ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51

Soulword_kmsraj51 - Change Y M T

Injustices And Suffering In The World – Applying The Law of Karma (Part 1) 

We are presently living in a closely connected world where everyone knows what everyone else is doing, as they are doing it. Each day brings scenes and images, through the media, in front of us, of many apparent injustices and suffering of individuals or groups of individuals. Whether it’s in the office, or in the market or on the television news, we hear and see reports of people suffering tremendous pain and sorrow at the hands of others. At these moments, our sense of injustice is stimulated and it becomes easy to rise in outrage against the sinners. In the process we ourselves suffer from our own self-created anger and perhaps hate. This process then becomes a habit and an inner pattern we begin to repeat, not only when we encounter scenes of global peacelessness, but the moment someone in the family or at office does something similar. A panic button is pressed and we react with the same pattern.

What we forget in both global and local contexts, is the history and geography of karma. Every scene and situation has a variety of related causes in both time (history) and space (geography) e.g. emotions of hatred and revenge amongst various countries and religions (in different parts of the world) and the actions connected with these emotions has underlying hidden causes, related to the Law of Karma (Law of Cause and Effect) which go back sometimes to hundreds of years – X is doing something with Y because Y had done something similar with X sometime in the past, but in different physical costumes, sometimes quite some time back in history – this is the reason, we often fail to take these causes into consideration when viewing these negative scenes and situations, because we see the situations with a limited perspective of present physical costumes and circumstances.

Injustices And Suffering In The World – Applying The Law of Karma (Part 2) 

An understanding of the laws of action reminds us that whatever we give we get, and whatever we get is the result of what we have given. When we apply this understanding into our awareness while we watch apparent injustices in the world, it reduces our outrage, lessening our pain. It’s not that we sit passively and allow people to bring about suffering upon others, but it helps us to see that the greatest or highest contribution that we can make, to both the victim and the sinner, is to help them remember who they are and help them rise above their anger and fear towards each other. Only in this way can we help them to liberate themselves from an exchange of energy that has perhaps been going on for centuries.

But before we can effectively do this for others, it is necessary to try and do it for ourselves. Instead of taking the law into our own hands (the desire for revenge and justice), we can benefit everyone around us by first understanding and living ourselves according to the invisible laws of cause and effect which define all human relationships. Sometimes this is referred to as ‘practice what you preach’, and it often requires moments of reflection before action in order to judge the consequences of any path of action. This capacity to stop, reflect and consider, in a state of mental calm and with clear intellect, is an essential characteristic of all effective leaders. It is also what makes us all potential leaders in life, every day, who can bring about world transformation through self transformation.

In Spiritual Service,
Brahma Kumaris

 

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational Story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है:kmsraj51@yahoo.in.पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

also send me E-mail:

kmsraj51@yahoo.in   &  cymtkmsraj51@hotmail.com(faster reply),,

अगर जीवन में सफल हाेना हैं. ताे जहाँ १० शब्दाें से काेई बात बन जाये वहा पर

१०० शब्द बाेलकर अपनी मानसिक और वाणी की ऊर्जा को नष्ट नहीं करना चाहिए॥

-Kmsraj51

kmsraj51 की कलम से …..

Coming soon book (जल्द ही आ रहा किताब)…..

“तू ना हो निराश कभी मन से”

 

_________________ all rights reserve under kmsraj51-2013-2014 _________________

होठों के फटने या कालेपन से परेशान हैं ?

kmsraj51 की कलम से…..

Soulword_kmsraj51 - Change Y M T

अगर जीवन में सफल हाेना हैं. ताे जहाँ १० शब्दाें से काेई बात बन जाये वहा पर

१०० शब्द बाेलकर अपनी मानसिक और वाणी की ऊर्जा को नष्ट नहीं करना चाहिए॥

-Kmsraj51

जीवन में कभी भी हार मानकर बैंठ ना जाना तुम।

माना कि तुफां ताे बहुत आयेगें जीवन में, पर काेई,

भी तुफां लंबे समय तक रह नहीं सकता जीवन में॥ -Kmsraj51

(Quotes: Kmsraj51 द्वारा लिखित book “तू ना हो निराश कभी मन से”  book से )

होठों के फटने या कालेपन से परेशान हैं ? तो ये आज़माएँ

अगर आप अपने होठों के फटने या कालेपन से परेशान हैं तो टेंशन न लें, नीचे दिए जा रहे कुछ आसान घरेलू नुस्खों से आप अपने होठों की सुन्दरता को चार चांद लगा सकते हैं….

Lips care - kmsraj51

 

1- होठों को रूखेपन और फटने से बचाने के लिए थोड़ी सी मलाई में चुटकी भर हल्दी मिलाकर धीरे-धीरे होठो पर मालिश करें।
2- होठों को फटने से बचाने के लिए रात में सोते समय और दिन में नहाने के बाद सरसों के तेल को गुनगुनाकर अपनी नाभि पर लगाएं। यह आयुर्वेदिक प्रयोग बेहद चमत्कारी है, इसका असर मात्र 12 घंटों में नजर आने लगता है। आप तेल को हथेली पर लेकर उसे दोनो हथेलियो से मसले इससे तेल हल्का पीला सफ़ेद हो जाएगा आप उसे लगाए ज्यादा लाभ मिलेगा।
3- होठों पर पपड़ी जमने पर- अगर आपके होठों पर पपड़ी जम जाती है तो बादाम का तेल रात को सोते समय होंठो पर लगाएं।
4- होंठो के कालेपन को दूर करने के लिए गुलाब की पंखुडिय़ों को पीसकर उसमें थोड़ी सी ग्लिसरीन मिलाकर इस लेप को रोजाना अपने होंठों पर लगाएं होंठों का कालापन जल्दी ही दूर होने लगेगा और लिपस्टिक लगाना बन्द कर दें।

5- होंठों को हमेशा गुलाबी रखने के लिए- दही के मक्खन में केसर मिला कर होठों पर मलने से आपके होंठ हमेशा गुलाबी रहेंगे।

Post inspired by-

Poojya Acharya Bal Krishan Ji Maharaj-KMSRAJ51

पूज्य आचार्य बाल कृष्ण जी महाराज

मैं श्री आचार्य बाल कृष्ण जी महाराज का बहुत आभारी हूँ!!

आपको दिल से शुक्रिया;

Ayurveda Product Available on;-

http://patanjaliayurved.org/

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational Story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है:kmsraj51@yahoo.in. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

also send me E-mail:

kmsraj51@yahoo.in 

&

 cymtkmsraj51@hotmail.com

 

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की  व्यथ॔ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51 

 

kmsraj51 की कलम से …..

Coming soon book (जल्द ही आ रहा किताब)…..

“तू ना हो निराश कभी मन से”

 

_________________ all rights reserve under kmsraj51-2013-2014 _________________


उपयोगिता

kmsraj51 की कलम से…..

Soulword_kmsraj51 - Change Y M Tउपयोगिता –

एक राजा था। उसने आज्ञा दी कि संसार में इस बात की खोज की जाय कि कौन से जीव-जंतु निरुपयोगी हैं। बहुत दिनों तक खोजबीन करने के बाद उसे जानकारी मिली कि संसार में दो जीव जंगली मक्खी और मकड़ी बिल्कुल बेकार हैं। राजा ने सोचा, क्यों न जंगली मक्खियों और मकड़ियों को ख़त्म कर दिया जाए।

इसी बीच उस राजा पर एक अन्य शक्तिशाली राजा ने आक्रमण कर दिया, जिसमें राजा हार गया और जान बचाने के लिए राजपाट छोड़कर जंगल में चला गया। शत्रु के सैनिक उसका पीछा करने लगे। काफ़ी दौड़-भाग के बाद राजा ने अपनी जान बचाई और थककर एक पेड़ के नीचे सो गया। तभी एक जंगली मक्खी ने उसकी नाक पर डंक मारा जिससे राजा की नींद खुल गई।
उसे ख़याल आया कि खुले में ऐसे सोना सुरक्षित नहीं और वह एक गुफ़ा में जा छिपा। राजा के गुफ़ा में जाने के बाद मकड़ियों ने गुफ़ा के द्वार पर जाला बुन दिया।

शत्रु के सैनिक उसे ढूँढ ही रहे थे। जब वे गुफ़ा के पास पहुँचे तो द्वार पर घना जाला देखकर आपस में कहने लगे, “अरे! चलो आगे। इस गुफ़ा में वह आया होता तो द्वार पर बना यह जाला क्या नष्ट न हो जाता।”

गुफ़ा में छिपा बैठा राजा ये बातें सुन रहा था।
शत्रु के सैनिक आगे निकल गए …
उस समय राजा की समझ में यह बात आई कि संसार में कोई भी प्राणी या चीज़ बेकार नहीं। अगर जंगली मक्खी और मकड़ी न होतीं तो उसकी जान न बच पाती। इस संसार में कोई भी चीज़ या प्राणी बेकार नहीं। हर एक की कहीं न कहीं उपयोगिता है।

Valuable-kmsraj51

 

 

 

 

 

 

Post inspired by-

Poojya Acharya Bal Krishan Ji Maharaj-KMSRAJ51पूज्य आचार्य बाल कृष्ण जी महाराज

मैं श्री आचार्य बाल कृष्ण जी महाराज का बहुत आभारी हूँ!!

आपको दिल से शुक्रिया;

Ayurveda Product Available on;-

http://patanjaliayurved.org/

 

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational Story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@yahoo.in. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

also send me E-mail:

kmsraj51@yahoo.in 

&

 cymtkmsraj51@hotmail.com

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की  व्यथ॔ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51

 

kmsraj51 की कलम से …..

Coming soon book (जल्द ही आ रहा किताब)…..

“तू ना हो निराश कभी मन से”

 

_________________ all rights reserve under kmsraj51-2013 _________________

झुर्रियाँ कुछ उपाय

kmsraj51 की कलम से…..

Soulword_kmsraj51 - Change Y M T

झुर्रियाँ कुछ उपाय —-

आधा चम्मच दुध की ठंडी मलाई में नींबु के रस की चार-पाँच बूंदें मिलाकर झुर्रियाँ पर सोते समय अच्छी तरह मलें। पहले गुनगुने पानी से चेहरा अच्छी मलें। फिर गुनगुने पानी से चेहरा अच्छी तरह धोएं और बाद में खुरदरे तौलिए से रगड-पौंछकर सुखा लें। इसके बाद मलाई दोनों हथेलियों से तब तक मलते रहें जब तक कि मलाई घुलकर त्वचा में रम न जाए। बीस मिनट या आधा घण्टे बाद स्नान करलें या पानी से धो डालें परन्तु साबुन का प्रयोग न करें। नित्य १५ – २० दिन तक नियमित प्रयोग से झुर्रियाँ दुर होती हैं तथा चेहरे के काले दाग मिट जाते हैं।

face beauty-kmsraj51या पके हुए पपीते का एक टुकडा काटकर चेहरे पर घिसें या गूदा मसल कर चेहरे पर लगाएं। कुछ देर बाद स्नान करलें। कुछ दिन लगातार ऐसा करने से चेहरे की झुर्रियाँ, धब्बे, दूर होते हैं, मैल नष्ट होता है। व मुहाँसे मिटकर चेहरे की रंगत निखरती है।

या ‘ई’ और ‘ओ’ बोलते हुए एक बार चेहरे को फैलाएं और फिर सिकोडें। दुसरे शब्दों मे ‘ई’ के उच्चारण के साथ ऐसी मुद्रा बनाएँ मानों कि आप मुस्कुराने जा रहे है। कुछ क्षण इसी मुद्रा में रहने के बाद होठों को आगे की तरफ बढाते हुए इस प्रकार मुद्रा बनाएँ मानों कि आप सीटी बजाना चाह रहे हैं। इससे गालों का अच्छा व्यायाम होता है जिससे गालों की पुष्टि होती है और झुर्रियाँ से बचाव। यह क्रिया एक बार में १५-२० बार करें और दिन में तीन बार करें।

या मुँह से फूँक मारते हुए गाल फुलाएं व पेट पिचकाएँ फिर नाक से सांस खींचें। इस प्रकार १५-२० बार करें और दिन में तीन बार करें। गाल पुष्ट होंगे।

या चेहरे में आँखों के छोर की रेखाएँ (झुर्रियाँ) मिटाने के लिए खीरे को गोलाई में टुकडे काटकर आँखों के नीचे-ऊपर लगा दें। माथे पर कुछ लम्बे टुंकडे लगाकर तनाव-रहित होकर कुछ देर लेटना चाहिए। इसक्रिया को प्रतिदिन एकबार करने से लगभग दो सप्ताह में ये लकीरें मिट जाती है।

या त्वचा की झुर्रियाँ मिटाने के लिए आधा गिलास गाजर का रस नित्य शाम चार बजे दो तीन सप्ताहलें।

या चेहरे पर झुर्रियों हों ही न ऐसा करने के लिए अंकुरित चने व मूंग को सुबह व शाम खाएँ। इनमें विद्यमान विटामिन ‘इ’ झुर्रियाँ मिटाने और युवा बनाये रखने  में विशेष सहायक होता है।

Post inspired by-

Poojya Acharya Bal Krishan Ji Maharaj-KMSRAJ51पूज्य आचार्य बाल कृष्ण जी महाराज

मैं श्री आचार्य बाल कृष्ण जी महाराज का बहुत आभारी हूँ!!

आपको दिल से शुक्रिया;

Ayurveda Product Available on;-

http://patanjaliayurved.org/

 

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational Story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@yahoo.in. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

also send me E-mail:

kmsraj51@yahoo.in 

&

 cymtkmsraj51@hotmail.com

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की  व्यथ॔ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51

 

kmsraj51 की कलम से …..

Coming soon book (जल्द ही आ रहा किताब)…..

“तू ना हो निराश कभी मन से”

 

_________________ all rights reserve under kmsraj51-2013 _________________

कड़ी पत्ता या मीठी नीम

kmsraj51 की कलम से…..

Soulword_kmsraj51 - Change Y M T

कड़ी पत्ता या मीठी नीम

अक्सर हम भोजन में से कढ़ी पत्ता निकालकर अलग कर देते है . इससे हमें उसकी खुशबु तो मिलती है पर उसके गुणों का लाभ नहीं मिल पाता . कढ़ी पत्ते को धोकर छाया में सुखाकर उसका पावडर इस्तेमाल करने से बच्चे और बड़े भी भी इसे आसानी से खा लेते है . इस पावडर को हम छाछ और निम्बू पानी में भी मिला सकते है . इसे हम मसालों में , भेल में भी डाल सकते है . इसकी छाल भी औषधि है . हमें अपने घरों में इसका पौधा लगाना चाहिए |

meetha neem-kmsraj51– पाचन के लिए अच्छा, डायरिया , डिसेंट्री, पाइल्स, मन्दाग्नि में लाभकारी . मृदुरेचक .
– बालों के लिए बहुत उत्तम टॉनिक – सफ़ेद होने से और झड़ने से रोकता है .
– इसके पत्तों का पेस्ट बालों में लगाने से जुओं से छुटकारा मिलता है .
– पेन्क्री आज़ के बीटा सेल्स को एक्टिवेट कर मधुमेह को नियंत्रित करता है .
– हरे पत्ते होने से आयरन, जिंक, कॉपर , केल्शियम, विटामिन ए और बी, अमीनो एसिड, फोलिक एसिड आदि तो इसमें होता ही है .
– इसमें एंटीओक्सीडेंट होते है जो बुढापे को दूर रखते है और केंसर कोशिकाओं को बढ़ने नहीं देते .
– जले और कटे स्थान पर लगाने से लाभ होता है .
– जहरीले कीड़े काटने पर इसके फलों के रस को निम्बू के रस के साथ मिलाकर लगाने से लाभ होता है .
– किडनी के लिए लाभकारी है .
– आँखों की बीमारियों में लाभकारी . इसमें मौजूद एंटीओक्सीडेंट के टरेक्ट को शुरू होने से रोकते है . यह नेत्रज्योति को बढाता है .
– यह कोलेस्ट्रोल कम करता है .
– यह इन्फेक्शन से लड़ने में मदद करता है .
– वजन कम करने के लिए रोजाना कुछ मीठी नीम की पत्तियाँ चबाये |

Post inspired by-

Poojya Acharya Bal Krishan Ji Maharaj-KMSRAJ51पूज्य आचार्य बाल कृष्ण जी महाराज

मैं श्री आचार्य बाल कृष्ण जी महाराज का बहुत आभारी हूँ!!

आपको दिल से शुक्रिया;

Ayurveda Product Available on;-

http://patanjaliayurved.org/

 

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational Story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@yahoo.in. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

also send me E-mail:

kmsraj51@yahoo.in 

&

 cymtkmsraj51@hotmail.com

kmsraj51- C Y M T

जाे आपका आैर आपके समय के वैल्यू काे ना समझे।

उसके लिए कभी भी कार्य (Work) ना कराे॥

 

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की  व्यथ॔ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51

 

kmsraj51 की कलम से …..

Coming soon book (जल्द ही आ रहा किताब)…..

“तू ना हो निराश कभी मन से”

 

_________________ all rights reserve under kmsraj51-2013 _________________

 

The Invisible Impressions That Shape Me

kmsraj51 की कलम से…..

Soulword_kmsraj51 - Change Y M T

The Invisible Impressions That Shape Me 

While the mind and intellect are two faculties of the soul which play their role on the surface of our consciousness; at a deeper level, hidden beneath these two faculties, there lies a third faculty commonly called the sanskarasThe sanskaras is not only a store house of personality traits, as we commonly know it to be, but a store house of millions and millions of impressions or imprints. Such a large number of impressions are created by millions of experiences that I go through my sense organs not only in this life but in all my lifetimes. Everything that I hear, see, touch, taste, etc. I process or analyze or summarize in my own unique way; basically I give the experiences a unique form depending on my personality, before this form gets stored in the form of impressions inside me. I even process my subtle experiences, which are in the form of thoughts and feelings.

This process of experiencing and processing takes place during each and every second of my life including the time I sleep, when my mind may not be experiencing a lot but it is busy processing the physical and subtle experiences of the day that has gone by and storing the processed information in the form of impressions. From this, one can get an idea of the magnitude of the database of impressions stored within me, the being. These imprints which are unique to me, make up my sanskaras, and shape up my unique personality in a cyclic process. My personality shapes what type of impressions are created out of my experiences and the impressions in turn shape my personality, my thoughts, words and actions e.g. if I constantly keep the company of people who gossip, a large number of respective impressions based on the experience of gossiping keep getting stored inside me, which in turn influence my personality, the personality characteristic gets stronger and over a period of time I do not find anything wrong with it and indulge in it more and more. As a result more such impressions get stored. Thus it is a cyclic process.

 

In Spiritual Service,
Brahma Kumaris

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational Story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है:kmsraj51@yahoo.in.पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

also send me E-mail:

kmsraj51@yahoo.in 

&

 cymtkmsraj51@hotmail.com

kmsraj51 की कलम से …..

Coming soon book (जल्द ही आ रहा किताब)…..

“तू ना हो निराश कभी मन से”

 

_________________ all rights reserve under kmsraj51-2013 _________________