आयुर्वेदिक वनस्पति-करेला !


kmsraj51 की कलम से…..

Soulword_kmsraj51 - Change Y M T

 

आयुर्वेदिक वनस्पति-करेला-

karela

करेला के गुणों से सब परिचित हैं |
मधुमेह के रोगी विशेषतःइसके रस और सब्जी का सेवन करते हैं | समस्त भारत में इसकी खेती की जाती है | इसके पुष्प चमकीले पीले रंग के होते हैं | इसके फल ५-२५ सेमी लम्बे,५ सेमी व्यास के, हरे रंग के,बीच में मोटे, सिरों पर नुकीले, कच्ची अवस्था में हरे तथा पक्वा वस्था में पीले वर्ण के होते हैं | इसके बीज ८-१३ मिमी लम्बे, चपटे तथा दोनों पृष्ठों पर खुरदुरे होते हैं जो पकने पर लाल हो जाते हैं| इसका पुष्प काल एवं फल काल जून से अक्टूबर तक होता है |

आज हम आपको करेले के कुछ औषधीय प्रयोगों से अवगत कराएंगे –

१- करेले के ताजे फलों अथवा पत्तों को कूटकर रस निकाल कर गुनगुना करके १-२ बूँद कान में डालने से कान-दर्द में लाभ होता है |

२- करेले के रस में सुहागा की खील मिलाकर लगाने से मुँह के छाले मिटते हैं |

३-सूखे करेले को सिरके में पीसकर गर्म करके लेप करने से कंठ की सूजन मिटती है।

४- १०-१२ मिली करेला पत्र स्वरस पिलाने से पेट के कीड़े मर जाते हैं |

५- करेला के फलों को छाया शुष्क कर महीन चूर्ण बनाकर रखें | ३-६ ग्राम की मात्रा में जल या शहद के साथ सेवन करना चाहिए | मधुमेह में यह उत्तम कार्य करता है | यह अग्नाशय को उत्तेजित कर इन्सुलिन के स्राव को बढ़ाता है |

६- १०-१५ मिली करेला फल स्वरस या पत्र स्वरस में राई और नमक बुरक कर पिलाने से गठिया में लाभ होता है |

७- करेला पत्र स्वरस को दाद पर लगाने से लाभ होता है | इसे पैरों के तलवों पर लेप करने से दाह का शमन होता है|

८- करेले के १०-१५ मिली रस में जीरे का चूर्ण मिलाकर दिन में तीन बार पिलाने से शीत-ज्वर में लाभ होता है |

Post inspired by:

स्वस्थ शरीर के लिए – आयुर्वेद का उपयोग करें।

Aachrya Balkrishan Ji-kmsraj51

पूज्य आचार्य बाल कृष्ण जी महाराज

मैं श्री आचार्य बाल कृष्ण जी महाराज का बहुत आभारी हूँ!!

आपको दिल से शुक्रिया-आचार्य  श्री;

Ayurveda Product Available on;-

http://patanjaliayurved.org/

 

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational Story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@yahoo.inपसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

 

Kmsraj51 की कलम से …..

Coming soon book (जल्द ही आ रहा किताब) …..

CYMT-KMSRAJ51

“तू ना हो निराश कभी मन से”

Book-Red-kmsraj51

 

 

 

मन काे कैसे नियंत्रण में करें।

मन के विचारों काे कैसे नियंत्रित करें॥

विचारों के प्रकार-एक खुशी जीवन के लिए।

अपनी सोच काे हमेशा सकारात्मक कैसे रखें॥

“मन के बहुत सारे सवालाें का जवाब-आैर मन काे कैसे नियंत्रित कर उसे सहीं तरिके से संचालित कर शांतिमय जीवन जियें”

“तू ना हो निराश कभी मन से”

——————————

“तू ना हो निराश कभी मन से”

 

__________ all rights reserve under Kmsraj51-2013-2014 ___________