– मुरली –


Kmsraj51 की कलम से…..

Kmsraj51-CYMT04

 

हिंदी मुरली (22-Sep-2014)

मुरली सार:- “मीठे बच्चे – बेहद की स्कॉलरशिप लेनी है तो अभ्यास करो-एक बाप के सिवाए और कोई भी याद न आये”

प्रश्न:- बाप का बनने के बाद भी यदि खुशी नहीं रहती है तो उसका कारण क्या है?
उत्तर:- 1- बुद्धि में पूरा ज्ञान नहीं रहता। 2- बाप को यथार्थ रीति याद नहीं करते। याद न करने के कारण माया धोखा देती है इसलिए खुशी नहीं रहती। तुम बच्चों की बुद्धि में नशा रहे-बाप हमें विश्व का मालिक बनाते हैं, तो सदा हुल्लास और खुशी रहे। बाप का जो वर्सा है-पवित्रता, सुख और शान्ति, इसमें फुल बनो तो खुशी रहेगी।

धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) जैसे शिवबाबा का कोई भभका नहीं, सर्वेन्ट बन बच्चों को पढ़ाने के लिए आये हैं, ऐसे बाप समान अथॉरिटी होते हुए भी निरहंकारी रहना है। पावन बनकर पावन बनाने की सेवा करनी है।
2) विनाश काल के समय ईश्वरीय लॉटरी लेने के लिए प्रीत बुद्धि बन याद में रहने वा दैवीगुणों को धारण करने की रेस करनी है।

वरदान:- एक बल एक भरोसे के आधार पर माया को सरेन्डर कराने वाले शक्तिशाली आत्मा भव
एक बल एक भरोसा अर्थात् सदा शक्तिशाली। जहाँ एक बल एक भरोसा है वहाँ कोई हिला नहीं सकता। उनके आगे माया मूर्छित हो जाती है, सरेन्डर हो जाती है। माया सरेन्डर हो गई तो सदा विजयी हैं ही। तो यही नशा रहे कि विजय हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है। यह अधिकार कोई छीन नहीं सकता। दिल में यह स्मृति इमर्ज रहे कि हम ही कल्प-कल्प की शक्तियां और पाण्डव विजयी बने थे, हैं और फिर बनेंगे।

स्लोगन:- नई दुनिया की स्मृति से सर्व गुणों का आह्वान करो और तीव्रगति से आगे बढ़ो।

English Murli (22-Sep-2014)

Essence: Sweet children, in order to claim an unlimited scholarship, practise remembering only the one Father and no one else.

Question: What are the reasons for not experiencing happiness even after belonging to the Father?
Answer: 1. The full knowledge doesn’t remain in the intellect.
2. You do not remember the Father accurately. Because you don’t remember Baba, Maya deceives you. This is why there isn’t happiness. You children should have intoxication in your intellects that the Father is making you into the masters of the world, and you will then always have enthusiasm and happiness. Become full of the Father’s inheritance of purity, happiness and peace and you will remain happy.

Essence for dharna:
1. Just as Shiv Baba doesn’t have any pomp and He has come as the Servant to teach you children, so, you are an authority like the Father and you too remain egoless. Become pure and do the service of making others become pure.
2. In order to claim a Godly lottery at the time of destruction, be one with a loving intellect and race to stay in remembrance and imbibe divine virtues.

Blessing: May you be a powerful soul and make Maya surrender on the basis of your having one strength and one support.
One strength and one support means to be constantly powerful. Where there is one strength and one support, no one can shake you. Maya wilts in front of such souls and surrenders herself. When Maya surrenders herself, you are constantly victorious. So, always have the intoxication that victory is your birthright. No one can snatch this right away from you. Let the awareness emerge in your hearts that you are the Shaktis and Pandavas who have been victorious every cycle, are victorious and so will be once again.

Slogan: Invoke all the virtues by having the awareness of the new world and move forward at an intense speed.

आध्यात्मिक सेवा में ब्रह्मकुमारी,

In Spiritual Service Brahmakumari,

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

Kmsraj51-CYMT08

 

 

_______Copyright © 2014 kmsraj51.com All Rights Reserved.________