हमारी जिंदगी मे रिश्ताे की बहुत अहमियत है।


Kmsraj51 की कलम से…..

CYMT-FMQ-Kmsraj51

ϒ हमारी जिंदगी मे रिश्ताे की बहुत अहमियत है। ϒ

≈> विमल गांधी जी।∅

हमारी जिंदगी में रिश्ताे की बहुत अहमियत है, बहुत से रिश्ते है – जैसे माता पिता, पति पत्नी, बेटा और बेटी, बहन – भाई, भाभी, बहु, चाची , मासी, नानी, दादा – दादी और माँ इनमें सब रिश्ताे की अपनी – अपनी गरिमा है।

इन मे एक रिश्ता है सास और बहु का, कहते है कि सास कभी माँ नही बन सकती और बहु कभी बेटी नही बन सकती, लेकिन इनका एक दूसरे के बिना गुज़ारा भी नही है। एक माँ कुछ भी हाे जाये वाे – अपने बेटे काे कभी दुंखी नही देख सकती और ना ही उसे छाेड सकती है।

क्योंकि उसने अपने बेटे काे बहुत लाड़ प्यार से पाला हाेता है। उसके लिये वह जीवन मे बहुत से समझाैते करती है, उसे जीवन मे आगे बढ़ने में बहुत मदद करती है।

जब बेटा बड़ा हाे जाता है ताे उसे उसकी शादी करने के बहुत अरमान हाेते है, और वाे चाहती है कि काेई अच्छी सी लड़की से उसकी शादी हाे जाये ताकि ओ हमेशा खुश रहे।

जब उसकी शादी कर देती है ताे नाैकरी के कारण बेटा माँ से दूर जा कर रहता है। उसका अलग ही घर बन जाता है, जाे माँ काे बिलकुल बर्दाश्त नही हाेता, वाे ताे चाहती है कि बेटा हमेशा उसके साथ रहे। लेकिन बहु के आ जाने से बेटा धीरे – धीरे माँ से दूर हाेता जाता है, और उनका अलग ही घर बन जाता है।

और बहु काे भी यह बात पसन्द नही है कि बेटा हमेशा माँ काे पूछे माँ और बेटे के प्यार काे देख कर उसे बर्दाश्त नही हाेता इसलिये माँ जब वहाँ रहने जाती है ताे वह अच्छा व्यवहार नही करती, उसे अकेले ही रहना पसन्द है, इस से माँ के दिल पर और भी चाेट लगती है लेकिन वह सहन करती है।

बहु काे जाे अपने माता-पिता बहन-भाई से लगाव हाेता है वाे सास से नही हाेता, ऐसा बार-बार हाेने से माँ काे भी धीरे-धीरे बहु से चिढ कर नफ़रत सी हाेने लगती है। वाे साेचती है कि बेटे की शादी करने से ताे बेटा मेरा दूर हाे गया है उसके दिल पर बहुत चाेट लगती है। आँखाे मे बार- बार आँसू आते रहते है।

इस तरह सास और बहु एक दूसरे से दूर हाेती जाती है। आज समाज में बहुत सी जगह पर ऐसे ही चल रहा है, मेरा मानना है कि बहु अपनी सास काे माँ नही मान सकती लेकिन इंसानियत के नाते उसका फ़र्ज़ बनता है कि सास के साथ अच्छा व्यवहार करे।

ऐसे ही सास भी अपनी बहु काे इंसानियत के नाते थाेडा समय दे सकती है, अपनी बहु काे बेटी नही मान सकती ळेकिन एक इंसानियत के नाते अच्छा व्यवहार करे। बहु काे सास और ससुर की उम्र का लिहाज़ करना चाहिये वाे घर मे बुज़ुर्ग है।

उनकी इज़्ज़त करनी चाहिये, अगर बहु सास काे इज़्ज़त और सम्मान देगी ताे माँ ताे माँ ही है। उसका दिल पत्थर का नही माेम का हाेता है वाे भी बहु काे गले से लगा लेगी, अपनी बेटी बना लेगी। लेकिन यह बहुत मुश्किल काम है जिसमें दाेनाे काे समझदारी से चलना हाेगा।

यह रिश्ते ऐसे है कि सुख का समय ताे निकल जाता है। लेकिन दुँख मे यह रिश्ते ही काम आते है और यह कही बाहर नही मिलते यह अपने घर मे ही मिल सकते है, दाेनाे काे दिल काे बड़ा रख कर प्यार काे बड़ाना चाहिये रिश्ता ताेडना नही चाहिये।

∅- विमल गांधी ∇
Vimal Gandhi-kmsraj51

विमल गांधी जी।

हम दिल से आभारी हैं विमल गांधी जी के प्रेरणादायक सकारात्मक विचार हिन्दी में साझा करने के लिए।

पढ़ेंविमल गांधी जी कि शिक्षाप्रद कविताओं का विशाल संग्रह।

Please Share your comment`s.

आपका सबका प्रिय दोस्त,

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  https://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

 ~KMSRAJ51

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की व्यर्थ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51

 ~KMSRAJ51

 

 

_______Copyright © 2015 kmsraj51.com All Rights Reserved.________