Copyright !!

https://kmsraj51.com/

Very Important Note ::-

नोट:

इस वेबसाइट (https://kmsraj51.com/) में प्रकाशित किसी भी तथ्यात्मक गलती के लिए प्रेषक/सम्बन्धित महानुभाव स्वयं जिम्मेदार होंगे, ब्लॉग प्रबंधक/संपादक नहीं। विवादित सूचनाओं/परिचयों को बिना किसी पूर्व सूचना के हटाने का अधिकार ब्लॉग प्रबंधक/संपादक के पास सुरक्षित है।

“अगर किसी काे, पोस्ट से संबंधित किसी भी तरह की काेई शिकायत हाे ताे कृपया इस ई-मेल आईडी kmsraj51@hotmail.com “or” kmsraj51@gmail.com पर ई-मेल करें।”


::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..

ID: kmsraj51@hotmail.com, kmsraj51@yahoo.in


कॉपीराइट


हिन्दी कविता..(https://kmsraj51.com/) से …..
© हिन्दी कविता हिन्दी काव्य को इंटरनैट पर एक जगह लाने का एक अव्यावसायिक और सामूहिक प्रयास है। इस वैबसाइट (https://kmsraj51.com/ ) पर संकलित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार रचनाकार या अन्य वैध कॉपीराइट धारक के पास सुरक्षित हैं। इसलिये हिन्दी कविता पेज में संकलित कोई भी रचना या अन्य सामग्री किसी भी तरह के सार्वजनिक लाइसेंस (जैसे कि GFDL) के अंतर्गत उपलब्ध नहीं है।
© Poems collected in हिन्दी कविता पेज are copyrighted by the respective poets and are, therefore, not available under any public, free or general licenses including GFDL.

हिन्दी कविता पेज में कॉपीराइट के बारे में ….

यद्यपि इसकी संभावना बहुत ही कम है तथापि यह संभव है कि किसी रचनाकार या प्रकाशक को उनके द्वारा लिखी गई या प्रकाशित की गई किसी रचना के हिन्दी कविता पेज में होने पर आपत्ति हो। इसी से सम्बंधित कुछ बातें यहाँ नीचे दी जा रही हैं।

हिन्दी कविता पेज पूरी तरह से अव्यावसायिक जालस्थल है। यह विकि तकनीक पर आधारित एक जालस्थल है और विश्व भर से लोग इसके विकास में भाग लेते हैं। इस कविता के अस्तित्व और विकास के पीछे किसी का कोई भी आर्थिक हित नहीं है। हिन्दी कविता का एकमात्र उद्देश्य हिन्दी काव्य को इंटरनैट पर एक जगह प्रतिष्ठित करना है ताकि पूरा संसार इसका लाभ उठा सके। हिन्दी कविता की स्थापना के पीछे एक ही आशा है कि कविता के अस्तित्व में आने से हिन्दी काव्य का प्रचार-प्रसार तेजी से पूरे विश्व में हो सकेगा।

हिन्दी कविता पेज में संकलित सभी रचनाओं के साथ रचनाकारों का नाम दिया जाता है जिससे रचनाकार को उचित श्रेय मिलता है।

इंटरनैट आज के युग में सूचना प्रसार का सबसे बड़ा, लोकप्रिय और सशक्त माध्यम है। वर्तमान युग में इंटरनैट पर किसी भी सूचना को फैलने से रोका नहीं जा सकता। बच्चन की मधुशाला इस समय सैकडों जालस्थलों पर उपलब्ध है। हिन्दी की हज़ारो काव्य रचनाएँ इंटरनैट पर जहाँ-तहाँ फैली पडी हैं। हिन्दी कविता इन सभी रचनाओं को एक स्थान पर लाने का एक प्रयास मात्र है। रचनाकार स्वयं अपनी रचनाओं को हिन्दी कविता में संकलित करना चाहते हैं; क्योंकि इससे रचनाकार का काव्य विश्वभर में पढा़ और सराहा जा सकता है। जब किसी आर्थिक लाभ को लेकर रचनाओं को संकलित या प्रयोग किया जाता है तभी रचनाकारों को आपत्ति होती है। लेकिन हिन्दी कविता की पूर्णतया अव्यावसायिक प्रकृति को देखते हुए रचनाकार (और कॉपीराइट-धारक) इंटरनैट पर हिन्दी कविता जैसे संकलन से केवल प्रसन्न ही हैं। हिन्दी कविता के प्रशंसको में हिन्दी के बहुत से प्रख्यात रचनाकार भी शामिल हैं। और बहुत से रचनाकार जो अभी कविता में संकलित नहीं हैं -वे भी अपनी रचनाओं को कविता में संकलित करने के इच्छुक हैं।

देखा गया है कि प्रिंट माध्यम के पाठक और इंटरनैट के पाठक अलग-अलग होते हैं। जो लोग पुस्तक खरीद कर पढ़ने में रुचि रखते हैं -उन्हें इंटरनैट पर उपलब्ध मूल्यरहित सामग्री भी अच्छी नहीं लगती और वे पुस्तक खरीदकर ही पढ़ते हैं। साथ ही लोग पुस्तकें इस लिये भी खरीदते हैं क्योंकि पुस्तकों का घर और पुस्तकालय इत्यादि में संकलन किया जा सकता है और जब चाहे उसे पढ़ा जा सकता है। इसलिये हिन्दी कविता, किसी भी रचनाकार या प्रकाशक को किसी भी तरह की आर्थिक हानि नहीं पहुँचाता। इसके विपरीत हिन्दी कविता रचनाकार की रचनाओं को वहाँ तक भी पहुँचाता है जहाँ उनकी प्रिंट पुस्तक नहीं पँहुच पाती। इससे रचनाकार के पाठक-समूह में वृद्धि होती है। हिन्दी कविता में पुस्तकों के प्रकाशकों के नाम और पते भी देने की कोशिश की जाती है -इससे उन लोगों को प्रकाशक से सम्पर्क करने में सुविधा होती है जो पुस्तक को खरीदना चाहते हैं।

इस प्रकार हिन्दी कविता रचनाकार, प्रकाशक और पाठक; सभी के लिये लाभकर है। इससे भी महत्वपूर्ण यह है कि हिन्दी कविता हिन्दी और हिन्दी काव्य को विश्व भर में प्रसारित करने का एक सशक्त माध्यम है।

फिर भी यदि किसी रचनाकार / कॉपीराइट-धारक को कोई आपत्ति है तो उनसे अनुरोध कि वह हिन्दी काव्य के प्रचार-प्रसार को ध्यान में रखते हुए, हिन्दी कविता के योगदानकर्ताओं से अनजाने में हुई भूल को क्षमा कर दें। यदि कॉपीराइट-धारक को कोई आपत्ति है तो कृपया ID::- kmsraj51@yahoo.in पर सूचित कर दें। जिन रचनाओं के हिन्दी कविता में होने पर उनके कॉपीराइट-धारक आपत्ति प्रकट करेंगे; उन्हें हिन्दी कविता से हटा दिया जाएगा।

 

kms-1151

 

Thank`s & Regard`s

Krishna Mohan Singh51(कृष्ण मोहन सिंह51)
Spiritual Author Cum Spiritual Guru
Always Positive Thinker Cum Motivator
Sr.Administrator (IT-Software, Hardware & Networking)
ID: kmsraj51@yahoo.in, kmsraj51@hotmail.com

My Spiritual book “संपूर्ण पवित्रता”॰तु न हाे निराश कभी मन से॰

Change Your Mind Thoughts

 

Copyright © 2014 kmsraj51.com All Rights Reserved.

cropped-kms10060.jpg

KMSRAJ51 Working under MRSSONKMSRAJ51 & Groups Of Companies

Copyright © 2014 kmsraj51.com All Rights Reserved.
::::::::::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) ….. ::::::::::

One thought on “Copyright !!

Thanks !!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s